Mujrim Ki Talaash by कर्नल रंजीत





एक ऐसी औरत की कहानी जिसके पति की दौलत लूट कर कुछ धन लोभी अययसो ने उसके साथ बलात्कार किया और उसके बच्हों को दर बदर का भिकारी बना दिया!

कौन थी वो औरत जिसने इंतेक़ांम की आग मे झुलसकर उन समाज के दुश्मनो को तडपा तडपा कर मारा!

एक ऐसे ख़तरनाक मुजरिम की कहानी जिसने एक मासूम लड़की की झील मे डुबोकर सिर्फ़ इसलिए हत्या कर दी की वो उसका असली चेहरा पहचान गयी थी और जिसे वो अपने पिता के रूप मे जानती थी!

अत्यधिक सनसनी और रोमांच से भरपूर उपन्यास जिसमे कदम कदम पर आसचर्यजनक रहस्यो का ताना बना बुना गया हे!

इस बार विश्वविख्यात जासूस मेजर बलवंत अनोखे और अचरज भरे अंदाज मे  करते हे --- मुजरिम की तलाश..!

पढ़िए और दाँतों तले उंगलियाँ दबाइए!




Download Mujrim Ki Talaash




SHARE

Novels4u

Disclaimer by author: Novels4u All the content presented here are found from various blogs and forums. The owner of this blog takes no responsibility what so ever for any of the content (image/audio/video). If you find some content inappropriate or if there is any violation of copyright, kindly contact the host of the content (image/audio/video) to remove it from their server. Enjoy your stay on this blog. Thanks.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

2 comments:

  1. कर्नल रंजीत का "मुजरिम की तलाश" को अपलोड करने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद . इसी तरह से भविष्य में कर्नल रंजीत और सुरेन्द्र मोहन पाठक के उपन्यास अपलोड की आशा करता हूँ .
    यहाँ एक बात आपसे कहना चाहता हूँ . मैंने करीब ७० के लगभग कर्नल रंजीत के उपन्यास पढ़े हैं जो सारे के सारे हिन्द पॉकेट बुक्स से १९६३ से १९७५ के बीच के थे . उसी समय कुछ कारणों से
    उनके नकली उपन्यास बाजार में आने लगे थे लेकिन नकली और असली में बहुत भारी फर्क था जो कि कुछ ही लाइन पढने से मालूम हो जाता था . इसी किताब में मनोज पॉकेट बुक्स में एक लिस्ट
    दी गयी है जिसमे प्रस्तुत पुस्तक सहित कुल ७४ किताबों की लिस्ट है . आपकी जानकारी के लिए उस लिस्ट में से ये नम्बर की किताबें नकली हैं 9,12,13,14,24,47,48,49,50,54,58,59,63,68,69,72,73,74.
    इतनी मेहनत करके आप किताबे अपलोड करते हैं तो फिर नकली किताबें क्यों करें ? इसी बात को आपसे बाटने के लिए मैने ये कमेट लिखा है . एक बार फिर आपको धन्यवाद , इतनी अच्छी कोशिस के लिए .
    कृपया जारी रखियेगा .
    आपका
    विनोद

    ReplyDelete
  2. Oops...not able to download this novel...wrong Ip error is shown...pls see it...thanks in advance...I got ur this blog also..yeepee.:-)

    ReplyDelete